TransLiteral Foundation
Don't follow traditions blindly or don't assume a superstition either.
Don't be intentionally ignorant. Ask us!! Make Informed Religious Decisions!!
संस्कृत सूची|शास्त्रः|ज्योतिष शास्त्रः|मानसागरी|तृतीयोऽध्यायः|
अध्याय ३ - मैत्रीचक्रम्

मानसागरी - अध्याय ३ - मैत्रीचक्रम्

सृष्टीचमत्काराची कारणे समजून घेण्याची जिज्ञासा तृप्त करण्यासाठी प्राचीन भारतातील बुद्धिमान ऋषीमुनी, महर्षींनी नानाविध शास्त्रे जगाला उपलब्ध करून दिली आहेत, त्यापैकीच एक ज्योतिषशास्त्र होय.

The horoscope is a stylized map of the planets including sun and moon over a specific location at a particular moment in time, in the sky.


तात्कालिकपचधामैत्रीचक्रम्

यथा स्वाभाविकीमैत्रीचक्रं यत्र प्रतिष्ठति ।

तादृगेव हि तत्कालमैत्रीचक्रं तु स्थापयेत् ॥१॥

Translation - भाषांतर
N/A

References : N/A
Last Updated : 2009-03-25T23:12:16.9800000

Comments | अभिप्राय

Comments written here will be public after appropriate moderation.
Like us on Facebook to send us a private message.

ऋषि वंश III. - आत्रेय वंश

  • n. अत्रिऋषि के द्वारा स्थापित किये गये इस वंश की जानकारी पौराणिक साहित्य में प्राप्त है [ब्रह्मांड. ३.८.७३-८६];[ वायु. ७०.६७ - ७८];[ लिंग. १.६३.६८ - ७८] । पौरव राजवंश से संबंधित इस वंश की जानकारी ब्रह्म एवं हरिवंश में प्राप्त है [ब्रह्म. १३.५ - १४];[ ह. वं. ३१.१६५८, १६६१ - १६६८] । इस वंश के ऋषि एवं गोत्रकारों की नामावलि मत्स्य में दी गयी है [मत्स्य. १९७] । पौराणिक साहित्य में आत्रेय वंश के आद्य संस्थापक अत्रि ऋषि एवं प्रभाकर को एक माना गया है, एवं उसे सोम का पिता कहा गया है । इस वंश के निम्नलिखित ऋषि विशेष सुविख्यात माने जाते हैं : - १. प्रभाकर आत्रेय ( अत्रि ऋषि, ) जिसका विवाह पौरव राजा भद्राश्व ( रौद्राश्व ) एवं धृताची के दस कन्याओं के साथ हुआ था; २. स्वस्त्यात्रेय, जो प्रभाकर के दस पुत्रों का सामूहिक नाम था, एवं उनसे ही आगे चलकर, आत्रेयवंश के ऋषियों का जन्म हुआ था; ३. दत्त आत्रेय; ४. दुर्वासस् । निम्नलिखित आत्रेय ऋषियों का निर्देश सूक्तद्रष्टा के नाते प्राप्त है : - १. अत्रि; २. अर्चनानस्; ३. श्यावाश्व; ४. गविष्ठिर; ५. बल्गूतक ( अविहोत्र, कर्णक ); ६. पूर्वातिथि । पार्गिटर के अनुसार, श्यावाश्व एवं बल्गूतक ये दोनों एक ही व्यक्ति के नाम थे । 
  • अत्रिऋषि के गोत्रकार n. निम्नलिखित ऋषियों का निर्देश आत्रेय वंश के गोत्रकार के नाते प्राप्त है : - १. श्यावाश्व; २. मुद्गल ( प्रत्वस्‍ ); ३. बलारक ( वाग्भूतक ववल्गु ); ४. गविष्ठिर [मत्स्य. १४५.१०७ - १०८] 
RANDOM WORD

Did you know?

How do I become a moderator on QnA?
Category : About us!
RANDOM QUESTION
Don't follow traditions blindly or ignore them. Don't assume a superstition either. Don't be intentionally ignorant. Ask us!!
Hindu customs are all about Symbolism. Let us tell you the thought behind those traditions.
Make Informed Religious decisions.

Featured site

Ved - Puran
Ved and Puran in audio format.