TransLiteral Foundation
Don't follow traditions blindly or don't assume a superstition either.
Don't be intentionally ignorant. Ask us!! Make Informed Religious Decisions!!
संस्कृत सूची|संस्कृत साहित्य|पुस्तकं|श्रीनारायणीयम्|दशमस्कन्धपरिच्छेदः|
एकोनसप्ततिमदशकम्

दशमस्कन्धपरिच्छेदः - एकोनसप्ततिमदशकम्

श्रीनारायणके दूसरे रूप भगवान् ‍ श्रीकृष्णकी इस ग्रंथमे स्तुति की गयी है ।


रासक्रीडा

केशपाशधृतपिच्छिकावितति सञ्चलन्मकरकुण्डलं

हारजालवनमालिकाललितमङ्गरागघनसौरभम् ।

पीतचैल्धृतकाञ्चिकाञ्चितमुदञ्चदंशुमणिनूपुरं

रासकेलिपरिभूषितं तव हि रूपमीश कलयामहे ॥१॥

तावदेव कृतमण्डने कलितकञ्चुलीककुचमण्डले

गण्डलोलमणिकुण्डले युवतिमण्डलेऽथ परिमण्डले ।

अन्तरा सकलसुन्दरीयुगलमिन्दिरारमण सञ्चरन्

मञ्जुलां तदनु रासकेलिमयि कञ्जनाभ समुपादधाः ॥२॥

वासुदेव तव भासमानमिह रासकेलिरससौरभं

दूरतोऽपि खलु नारदागदितमाकलय्य कुतुकाकुला ।

वेषभूषणविलासपेशलविलासिनीशतसमावृता

नाकतो युगपदागता वियति वेगतोऽथ सुरमण्डली ॥३॥

वेणुनादकृततानदानकलगानरागगतियोजना -

लोभनीयमृदुपादपातकृततालमेलनमनोहरम् ।

पाणिसंक्वणितकङ्कणं च मुहुरंसलम्बितकराम्बुजं

श्रोणिबिम्बचलदम्बरं भजत रासकेलिरसडम्बरम् ॥४॥

श्रद्धया विरचितानुगानकृततारतारमधुरस्वरे

नर्त्तनेऽथ ललिताङ्गहारलुलिताङ्गहारमणिभूषणे ।

सम्मदेन कृतपुष्पवर्षमलमुन्मिषद् दिविषदां कुलं

चिन्मये त्वयि निलीयमानमिव सम्मुमोह सवधूकुलम् ॥५॥

स्विन्नसन्नतनुवल्लरी तदनु कापि नाम पशुपाङ्गना

कान्तमंसमवलम्बते स्म वि तान्तिभारमुकुलेक्षणा ।

काचिदाचलितकुन्तला नवपटीरसारघनसौरभं

वञ्चनेन तव सञ्चुचुम्ब भुजमञ्चितोरुपुलकाङ्कुरा ॥६॥

कापि गण्डभुवि सन्निधाय निजगण्डमाकुलितकुण्डलं

पुण्यपूरनिधिरन्ववाप तव पूगचर्वितरसामृतम् ।

इन्दिराविहृतिमन्दिरं भुवनसुन्दरं हि नटनान्तरे

त्वामवाप्य दधुरङ्गनाः किमु न सम्मदोन्मददशान्तरम् ॥७॥

गानमीश विरतं क्रमेण किल वाद्यमेलनमुपारतं

ब्रह्मसम्मदरासाकुलाः सदसि केवलं ननृतुरङ्गनाः ।

नाविदन्नपि च नीविकां किमपि कुन्तलीमपि च कञ्चुलीं

ज्योतिषामपि कदम्बकं दिवि विलम्बितं किमप्रं ब्रुवे ॥८॥

मोदसीम्नि भुवनं विलाप्य विहृतिं समाप्य च ततो विभो

केलिसम्मृदितनिर्मलाङ्गनवघर्मलेशसुभगात्मनाम् ।

मन्मथासहचेतसां पशुपयोषितां सुकृतचोदित -

स्तावदाकलितमूर्तिरादधिथ मारवीरपरमोत्सवान् ॥९॥

केलिभेदपरिलोलिताभिरतिलालिताभिरबलालिभिः

स्वैरमीश ननु सूरजापयसि चारुनाम विहृतिं व्यधाः ।

काननेऽपि च विसारिशीतलकिशोरमारुतमनोहरे

सूनसौरभमये विलेसिथ विलासिनीशतविमोहनम् ॥१०॥

कामिनीरिति हि यामिनीषु खलु कामनीयकनिधे भवान्

पूर्णसम्मदरसार्णवं कमपि योगिगम्यमनुभावयन् ।

ब्रह्मशङ्करमुखानपीह पशुपाङ्गनासु बहुमानयन्

भक्तलोकगमनीयरूप कमनीय कृष्ण परिपाहि माम् ॥११॥

॥ इति रासक्रीडावर्णनम् एकोनसप्ततितमदशकं समाप्तम् ॥

Translation - भाषांतर

हे ईश ! हम रासक्रीडामें विभूषित आपके मनोहर रूपका चिन्तन करते हैं । आपने अपने केश -पाशमें मोरपंखकी पंक्ति धारण कर रखी है । आपके कपोलोंपर मकराकार कुण्डल झलमला रहे हैं । विविध हारोंके समुदाय तथा वनमालासे आपके रूपका लालित्य और बढ़ गया हैं । श्रीअङ्गरागसे राशि -राशि सुगन्धकी वर्षा हो रही है । कटिप्रदेशमें पीताम्बरके ऊपर करधनीकी लड़ियोंसे आप सुशोभित हैं तथा आपके चरणोंमें धारित मणिमय नूपुरोंसे किरणें उठ रही हैं ॥१॥

पहलेसे ही गोपयुवतियोंकी मण्डली श़ृङार धारण करके मण्डलाकार खड़ी हैं । उनके वक्षःस्थलपर कञ्चुकी (चोली ) शोभा दे रही है । गालोंपर चञ्चल मणिमय कुण्डल झलक रहे हैं । इन्दिरारमण ! पद्मनाभ ! आप समस्त दो -दो गोपसुन्दरियोंके बीचमें संचरण कर रहे हैं । ऐसी व्यवस्था करनेके पश्र्चात् आपने मञ्जुल रासकेलि आरम्भ की हे ॥२॥

वासुदेव ! यहॉं प्रकाशित आपकी रासक्रीडाके रससौरभका समाचार नारदजीके मुखसे सुनकर दूरसे भी उत्कण्ठित हुई देवमण्डली स्वर्गलोकसे एक साथ चलकर वेगपूर्वक आकाशमें आ खड़ी हुई । वह देव -समुदाय दिव्य वेष -भूषा और विलासके कारण मनोहर प्रतीत होनेवाली सैकड़ों विलासिनियों (सुराङ्गानाओं )-से धिरा हुआ था ॥३॥

रासक्रीडाके रसका समारम्भ कैसा हुआ , इसका चिन्तन कीजिये । भगवान् वंशी बजाकर मधुर तान छेड़ते , उसपर गोपियोंका मनोहर गान होता , गीतके राग और गतिकी योजनाके साथ लुभावना कोमल चरणपात होता और उसके साथ तालका मेल होनेसे वह रा -रङ्ग अत्यन्त मनोहर प्रतीत होता था । उस रास -नृत्यके समय गोपियोंके हाथोंके कंगन खनखना उठते , उनका करकमल बार -बार पार्श्र्वसहचर श्रीकृष्णके कंधेका सहारा ले लेता तथा नितम्बमण्डलपर लहराती हुई घॉंघर उड़ने लगती थी ॥४॥

श्रद्धापूर्वक चलनेवाले उस रास -नृत्यमें साथ -ही -साथ होनेवाले गानके द्वारा कभी तार और कभी मन्द स्वरका विस्तार होता था । मनोहर अङ्गविक्षेपके कारण शरीरके हार और मणिमय भूषण चञ्चल हो जाते थे । अपलक नेत्रोंसे देखता हुआ देव -समुदाय आनन्दतिरेकसे दिव्य पुष्पोंकी प्रचुर वर्षा करता और अपनी वधुओंके साथ ही आप चिन्मय परमात्मामें लयको प्राप्त हुआ -सा मोहमग्न हो जाता था ॥५॥

तदनन्तर कोई गोपाङ्गना , जिसकी लताके समान पतली देह शिथिल एवं पसीने -पसीने हो गयी थी , अधिक थकावटके कारण अधमुँदी आँखें लिये आपके कमनीय कंधेका सहारा ले लिया करती थी । किसीके केश खुलकर कुछ -कुछ हिल रहे थे । उसने नूतन चन्दन -सारके घनीभूत सौरभसे युक्त आपकी बॉंहको किसी बहानेसे चूम लिया और उसके अङ्ग -अङ्गमें अत्यन्त रोमाञ्च हो आया ॥६॥

किसी गोपीने , जो पुण्यराशिकी निधि थी , हिलते हुए कुण्डलसे मण्डित अपने गण्डस्थलको आपके कपोलके पास ले जाकर आपके द्वारा चबायी गयी सुपारीके रसामृतका पान कर लिया । आप त्रिभुवनसुन्दर हैं और इन्दिरा (लक्ष्मी )-के विलास -मन्दिर हैं । आपको रासनृत्यके बीचमें पाकर गोपाङ्गनाओंने आनन्दोन्मादकी कौन -कौन -सी दशाएँ नहीं धारण कीं ॥७॥

हे ईश ! गान बंद हुआ । क्रमशः बाजोंकी संगति भी बंद हो गयी । ब्रह्मानन्द -रसमें निमग्न हुई गोपाङ्गनाएँ समूहमें केवल नृत्य करती रहीं । उन्हें अपने नीवी -वस्त्रोंके खिसक जानेका , केशपाशोंके खुल जानेका और कञ्चुकीके स्थानभ्रष्ट हो जानेका भी भान नहीं हुआ । औरोंकी क्या बात कहूँ , तारोंका समुदाय भी आकाशमें लटका खड़ा रह गया ॥८॥

विभो ! सम्पूर्ण भुवनको आनन्दकी पराकाष्ठामें विलीन करके रास -विहार समाप्त कर आपने जितनी गोपाङ्गनाएँ थीं , उतने ही रूप धारण करके उनके पुण्यकर्मसे प्रेरित हो अत्यन्त उत्कृष्ट मदनोत्सव आरम्भ किया । गोपाङ्गनाओंके केलिमर्दित निर्मल अङ्गोंमें नूतन पसीनेकी कुछ बूँदें , उभड़ आयी थीं , जिनसे वे बड़ी सुन्दर दिखायी देती थीं और उनका चित्त मन्मथकी पीड़ाको सहन करनेमें असमर्थ हो गया था ॥९॥

मनोहरनामवाले ईश्र्वर ! आपने विभिन्न क्रीड़ाओंद्वारा चञ्चल और आपके लाड़ -प्यारसे अत्यन्त समादृत हुई उन अबलाओंके साथ यमुनाजीके जलमें स्वच्छन्द विहार किया । तत्पश्र्चात् सब ओर फैली हुई शीतल किशोर (मन्द ) वायुसे मनको हर लेनेवाले तथा फूलोंकी सुगन्धसे भरे हुए काननमें भी सैकड़ों विलासिनीजनोंको विमोहित कर देनेवाला विलास किया ॥१०॥

कमनीयताके निधिरूप कमनीय कृष्ण ! आपने इस प्रकार अनेक रात्रियोंमें उन कामिनियोंको योगीजनोंके अनुभवमें आने योग्य किसी अपूर्व पूर्णानन्द -रसामृतसागरका अनुभव कराया तथा उन गोपाङ्गनाओंके प्रति ब्रह्मा और शिव आदि देवताओंका भी अधिक आदर प्रकट किया । यह सब करते हुए भक्तजनोंको ही प्राप्तव्य रमणीय रूपवाले नन्दनन्दन ! मेरी रक्षा कीजिये ॥११॥


References : N/A
Last Updated : 2016-11-11T11:54:51.1930000

Comments | अभिप्राय

Comments written here will be public after appropriate moderation.
Like us on Facebook to send us a private message.

ectostroma

  • स्त्री. Bot.(the part of the stroma formed on the surface of the bark, beneath or within the periderm) बाह्य पीठिका 
RANDOM WORD

Did you know?

श्रीदत्तपुराणटीका and more books for shree dattaray
Category : Hindu - Traditions
RANDOM QUESTION
Don't follow traditions blindly or ignore them. Don't assume a superstition either. Don't be intentionally ignorant. Ask us!!
Hindu customs are all about Symbolism. Let us tell you the thought behind those traditions.
Make Informed Religious decisions.

Featured site