Dictionaries | References

रेणुका

A Sanskrit English Dictionary | sa  en |   | 
रेणुका  f. af. See below
रेणुका  f. bf. a partic. drug or medicinal substance (said to be fragrant, but bitter and slightly pungent in taste, and of greyish colour; cf.रेणु), [L.]
रेणु-कारिका   N. of a कारिका (composed by हरि-हर; cf.), [Cat.]

of the wife of जमद्-अग्नि and mother of परशु-राम (she was the daughter of रेणु and of king प्रसेन-जित्), [MBh.]; [Hariv.]; [Pur.]
of a river, [VP.]
रेणुका [rēṇukā]   1 The wife of Jamadagni and mother of Paraśurāma; see जमदग्नि.
A kind of medicinal substance. -Comp.
-तनयः, -सुतः   an epithet of Paraśurāma.
 स्त्री. विना . जमदग्नीची पत्नी व परशुरामाची आई .
रेणुका n.  इक्ष्वाकुवंशीय रेणु (प्रसेनजित्) राजा की कन्या, जो जमदग्नि महर्षि की पत्नी थी [भा. ९.१५.२];[ ह. वं. १.२७.३८];[ म. व. ११६.२] । कई अन्य ग्रंथों में इसे अनावसु की, एवं विकल्य में सुवेणु की कन्या कहा गया है [रेणु. ५] । कालिका पुराण में इसे विदर्भ राजा की कन्या कहा गया है [कालि. ८६] । इसे कामली नामान्तर भी प्राप्त था ।
रेणुका n.  महाभारत के अनुसार, इसकी उत्पत्ति कमल में हुई थी, एवं इसके पिता एवं भ्राता का नाम क्रमशः सोंप एवं रेणु था [म. अनु. ५३.२७] । सोंप राजा के द्वारा इसका पालन होने कारण, संभवत: उसे इसका पिता कहा होगा । रेणुकापुराण के अनुसार, रेणु राजा ने कन्याकामेष्टियज्ञ किया । उस यज्ञकुण्ड से इसकी उत्पत्ति हुई [रेणु. ३] । अपने पूर्वजन्म में यह अदिति थी । इसका स्वयंवर भागीरथी क्षेत्र में हुआ, जिस समय इसने स्वयंवर के समय इंद्र ने इसे कामधेनु, कल्यतक, चिंतामणि एवं पारत्स आदि विभिन्न मौल्यवान चीजे भेंट में दे दी [रेणु. १३] । एक बार जमदग्नि ऋषि बाणक्षेपण का खेल खेल रहे थे, जिस समय बाण वापस लाने का काम इस पर सौंपा, गया था । एकबार बाण लाने में इसे कुछ देरी हो गयी जिस कारण क्रुद्ध हो कर जमदग्नि ने अपने पुत्र परशुराम से इसका शिरच्छेद करने के लिए कहा [म. अन्. ९५. ७-१७] । अपने पिता की आज्ञानुसार, परशुराम ने इसका वध किया, एवं पश्चात जमदग्नि से अनुरोध कर इसे पुनर्जीवित कराया [म. व. ११६.५-१८]
रेणुका n.  इसे निम्नलिखित पाँच पुत्र थे:--- रुमण्वत्, सुषेण, वसु, विश्वावसु एवं परशुराम [म. व. ११६. १०-११] । रेणुकापुराण में ’ रुमण्वत्’ एवं ‘सुषेण’ के बदले पुत्रों के नाम ‘बृहत्मानु’ एवं ‘बृहत्कर्मन्’ दिये गयें हैं (रेणू. १३) । कलिका पुराण में ‘रुपण्वत्’ के बदले ‘मरुत्वत्’ नाम प्राप्त है [कालि, ८६]
Puranic Encyclopaedia  | en  en |   | 
REṆUKĀ I   The wife of the hermit Jamadagni. (For further details see under the word Jamadagni).
REṆUKĀ II   A holy place frequented by Sages. It is mentioned in [Mahābhārata, Vana Parva, Chapter 82]. Stanza 82 that those who bathe in this holy bath would become as pure as Candra (Moon). It is stated in [Mahābhārata, Vana Parva, Chapter 82], that this holy place lies within the boundary of Kurukṣetra.

Related Words

: Folder : Page : Word/Phrase : Person
: Folder : Page : Word/Phrase : Person

Comments | अभिप्राय

Comments written here will be public after appropriate moderation.
Like us on Facebook to send us a private message.
TOP