Dictionaries | References

राजशेखर

A Sanskrit English Dictionary | sa  en |   | 
राज—शेखर  m. m. (also with कवि, सूरि &c.) N. of various authors and teachers; (esp.) of a poet (son of दुर्दक and शील-वती, tutor of महेन्द्रपाल, king of कान्यकुब्ज; he lived in the 10th century and wrote 4 plays, viz.प्रचण्ड-पाण्डव or बाल-भारत, बाल-रामायण, विद्धशाल-भञ्जिका, and कर्पूर-मञ्जरी)

Puranic Encyclopaedia  | en  en |   | 
RĀJAŚEKHARA   A Sanskrit dramatist who lived in India in 7th century A.D. Bālabhārata or Prakāṇḍapāṇḍava, Bālarāmāyaṇa, Viddhaśālabhañjikā and Karpūramañjarī are his more famous dramatic works. Karpūramañjarī refers to him as the preceptor of a king of Kanauj. Rājaśekhara was known by the name Kavirāja also. Bālarāmāyaṇa, called also Mahānāṭaka, is a drama in ten Acts. Bālabhārata contains only two Acts. Its theme is the wedding of Draupadī and the ruin caused by the game of dice. Viddhaśālabhañjikā is a drama in four Acts. He has a further work to his credit, Kāvyamīmāṁsā in eighteen chapters. Some scholars hold the view that Rājaśekhara lived in the 10th century A.D.

Related Words

: Folder : Page : Word/Phrase : Person

Keyword Pages

  • काव्यमीमांसा
    संस्कृत कवि राजशेखरद्वारा द्वारा रचित काव्यमीमांसा अलंकार शास्त्र पर लिखा गया एक विशालकाय ग्रंथ था, जिसमें मूलत: 18 अधिकरण थे। राजशेखर महाराष्ट्र देश..
  • काव्यमीमांसा - प्रथमो ऽध्यायः
    संस्कृत कवि राजशेखरद्वारा द्वारा रचित काव्यमीमांसा अलंकार शास्त्र पर लिखा गया एक विशालकाय ग्रंथ था, जिसमें मूलत: 18 अधिकरण थे। राजशेखर महाराष्ट्र देश..
  • काव्यमीमांसा - द्वितीयो ऽध्यायः
    संस्कृत कवि राजशेखरद्वारा द्वारा रचित काव्यमीमांसा अलंकार शास्त्र पर लिखा गया एक विशालकाय ग्रंथ था, जिसमें मूलत: 18 अधिकरण थे। राजशेखर महाराष्ट्र देश..
  • काव्यमीमांसा - तृतीयो ऽध्यायः
    संस्कृत कवि राजशेखरद्वारा द्वारा रचित काव्यमीमांसा अलंकार शास्त्र पर लिखा गया एक विशालकाय ग्रंथ था, जिसमें मूलत: 18 अधिकरण थे। राजशेखर महाराष्ट्र देश..
  • काव्यमीमांसा - चतुर्थो ऽध्यायः
    संस्कृत कवि राजशेखरद्वारा द्वारा रचित काव्यमीमांसा अलंकार शास्त्र पर लिखा गया एक विशालकाय ग्रंथ था, जिसमें मूलत: 18 अधिकरण थे। राजशेखर महाराष्ट्र देश..
  • काव्यमीमांसा - पञ्चमो ऽध्यायः
    संस्कृत कवि राजशेखरद्वारा द्वारा रचित काव्यमीमांसा अलंकार शास्त्र पर लिखा गया एक विशालकाय ग्रंथ था, जिसमें मूलत: 18 अधिकरण थे। राजशेखर महाराष्ट्र देश..
  • काव्यमीमांसा - षष्ठो ऽध्यायः
    संस्कृत कवि राजशेखरद्वारा द्वारा रचित काव्यमीमांसा अलंकार शास्त्र पर लिखा गया एक विशालकाय ग्रंथ था, जिसमें मूलत: 18 अधिकरण थे। राजशेखर महाराष्ट्र देश..
  • काव्यमीमांसा - सप्तमो ऽध्यायः
    संस्कृत कवि राजशेखरद्वारा द्वारा रचित काव्यमीमांसा अलंकार शास्त्र पर लिखा गया एक विशालकाय ग्रंथ था, जिसमें मूलत: 18 अधिकरण थे। राजशेखर महाराष्ट्र देश..
  • काव्यमीमांसा - चतुर्थो ऽध्यायः
    संस्कृत कवि राजशेखरद्वारा द्वारा रचित काव्यमीमांसा अलंकार शास्त्र पर लिखा गया एक विशालकाय ग्रंथ था, जिसमें मूलत: 18 अधिकरण थे। राजशेखर महाराष्ट्र देश..
  • काव्यमीमांसा - नवमो ऽध्यायः
    संस्कृत कवि राजशेखरद्वारा द्वारा रचित काव्यमीमांसा अलंकार शास्त्र पर लिखा गया एक विशालकाय ग्रंथ था, जिसमें मूलत: 18 अधिकरण थे। राजशेखर महाराष्ट्र देश..
  • काव्यमीमांसा - दशमोऽध्यायः
    संस्कृत कवि राजशेखरद्वारा द्वारा रचित काव्यमीमांसा अलंकार शास्त्र पर लिखा गया एक विशालकाय ग्रंथ था, जिसमें मूलत: 18 अधिकरण थे। राजशेखर महाराष्ट्र देश..
  • काव्यमीमांसा - एकादशो ऽध्यायः
    संस्कृत कवि राजशेखरद्वारा द्वारा रचित काव्यमीमांसा अलंकार शास्त्र पर लिखा गया एक विशालकाय ग्रंथ था, जिसमें मूलत: 18 अधिकरण थे। राजशेखर महाराष्ट्र देश..
  • काव्यमीमांसा - द्वदशो ऽध्यायः
    संस्कृत कवि राजशेखरद्वारा द्वारा रचित काव्यमीमांसा अलंकार शास्त्र पर लिखा गया एक विशालकाय ग्रंथ था, जिसमें मूलत: 18 अधिकरण थे। राजशेखर महाराष्ट्र देश..
  • काव्यमीमांसा - त्रयोदशो ऽध्यायः
    संस्कृत कवि राजशेखरद्वारा द्वारा रचित काव्यमीमांसा अलंकार शास्त्र पर लिखा गया एक विशालकाय ग्रंथ था, जिसमें मूलत: 18 अधिकरण थे। राजशेखर महाराष्ट्र देश..
  • काव्यमीमांसा - चतुर्दशो ऽध्यायः
    संस्कृत कवि राजशेखरद्वारा द्वारा रचित काव्यमीमांसा अलंकार शास्त्र पर लिखा गया एक विशालकाय ग्रंथ था, जिसमें मूलत: 18 अधिकरण थे। राजशेखर महाराष्ट्र देश..
  • काव्यमीमांसा - पञ्चदशो ऽध्यायः
    संस्कृत कवि राजशेखरद्वारा द्वारा रचित काव्यमीमांसा अलंकार शास्त्र पर लिखा गया एक विशालकाय ग्रंथ था, जिसमें मूलत: 18 अधिकरण थे। राजशेखर महाराष्ट्र देश..
  • काव्यमीमांसा - षोडशो ऽध्यायः
    संस्कृत कवि राजशेखरद्वारा द्वारा रचित काव्यमीमांसा अलंकार शास्त्र पर लिखा गया एक विशालकाय ग्रंथ था, जिसमें मूलत: 18 अधिकरण थे। राजशेखर महाराष्ट्र देश..
  • काव्यमीमांसा - सप्तदशो ऽध्यायः
    संस्कृत कवि राजशेखरद्वारा द्वारा रचित काव्यमीमांसा अलंकार शास्त्र पर लिखा गया एक विशालकाय ग्रंथ था, जिसमें मूलत: 18 अधिकरण थे। राजशेखर महाराष्ट्र देश..
  • काव्यमीमांसा - अष्टादशो ऽध्यायः
    संस्कृत कवि राजशेखरद्वारा द्वारा रचित काव्यमीमांसा अलंकार शास्त्र पर लिखा गया एक विशालकाय ग्रंथ था, जिसमें मूलत: 18 अधिकरण थे। राजशेखर महाराष्ट्र देश..
: Folder : Page : Word/Phrase : Person

Related Pages

: Folder : Page : Word/Phrase : Person

Comments | अभिप्राय

Comments written here will be public after appropriate moderation.
Like us on Facebook to send us a private message.
TOP