Dictionaries | References

कविता

   { kavitā }
Script: Devanagari
See also:  कवित , कवित्र , कवित्व , कवीत

कविता     

हिन्दी (hindi) WN | Hindi  Hindi
See : काव्य

कविता     

कोंकणी (Konkani) WN | Konkani  Konkani
noun  रसान आनी भावनेन भरिल्लो साहित्याचो प्रकार   Ex. हांव कविता बरयतां
HYPONYMY:
गीतकाव्य शेर गजल मुक्तछंदताय पॅरडी कसीदा रुबाई नज्म श्लोक मसनवी साखी अर्थगौरव चित्रकाव्य इदी मार्फत सॉनेट अभंग गुरुबाणी
ONTOLOGY:
कला (Art)अमूर्त (Abstract)निर्जीव (Inanimate)संज्ञा (Noun)
SYNONYM:
काव्य पद्य पद गीत सुनीत
Wordnet:
asmকবিতা
bdखन्थाइ
benকাব্য
gujકાવ્ય
hinकाव्य
kanಕಾವ್ಯ
kasشٲعری
malകാവ്യം
marकाव्य
mniꯁꯩꯔꯦꯡ
nepकाव्य
oriକାବ୍ୟ
panਕਵਿਤਾ
sanपद्यकाव्यम्
tamகாவியம்
telకావ్యం
urdشاعری , نظم

कविता     

मराठी (Marathi) WN | Marathi  Marathi
See : काव्य

कविता     

ना.  कवन , कवित्व , काव्य , गीत , पद्य .

कविता     

नस्त्री . १ कवन ; काव्य ; पद्म ; आल्हादकारक पद्मरचना ; रसयुक्त वाक्यरचना . २ प्रतिभा संपन्न ( गद्य , पद्य ) रचना . ' जेणें अनुताप उपजे । जेणें लेकिक लाजे । जेणें ज्ञान उमजे । या नाव कवित्व । ' - दा १४ . ३ . ४८ . ( सं .)

कविता     

नेपाली (Nepali) WN | Nepali  Nepali
See : काव्य

कविता     

A Sanskrit English Dictionary | Sanskrit  English
कवि—ता  f. f. poetry, ornate style (whether of verse or prose), [Bhartṛ.] ; [Prasannar.]
ROOTS:
कवि ता
a poem, [W.]

कविता     

कविता [kavitā]   Poetry; सुकविता यद्यस्ति राज्येन किम् [Bh.2.21;] यस्याश्चोरश्चिकुरनिकरः कर्णपूरो मयूरो भासो हासः कविकुलगुरुः कालि- दासो विलासः । हर्षो हर्षो हदयवसतिः पञ्चबाणस्तु बाणः केषां नैषा कथय कविताकामिनी कौतुकाय ॥ [P. R.1.22.]

कविता     

Shabda-Sagara | Sanskrit  English
कविता  f.  (-ता)
1. Poesy, poetical style or composition.
2. A poem.
E. कवि, and तल् affix; also
ROOTS:
कवि तल्
with त्व affix, कवित्वं.

Keyword Pages

  |  
  • गीत और कविता
    हिन्दी कवियोंने आधी शताब्दीसे भी अधिक लंबे समयतक उनकी रचनाकर्मसे आधुनिक हिन्दी कविता समृद्ध की है।
  • ग्राम्या
    ग्रामीण लोगोंके प्रति बौद्धिक सहानुभूती से ओतप्रोत कविताये इस संग्रह मे लिखी गयी है। ग्रामों की वर्तमान दशा प्रतिक्रियात्मक साहित्य को जन्म देती है।
  • सुमित्रानंदन पंत - ग्राम नारी
    ग्रामीण लोगोंके प्रति बौद्धिक सहानुभूती से ओतप्रोत कविताये इस संग्रह मे लिखी गयी है। ग्रामों की वर्तमान दशा प्रतिक्रियात्मक साहित्य को जन्म देती है।
  • सुमित्रानंदन पंत - कठपुतले
    ग्रामीण लोगोंके प्रति बौद्धिक सहानुभूती से ओतप्रोत कविताये इस संग्रह मे लिखी गयी है। ग्रामों की वर्तमान दशा प्रतिक्रियात्मक साहित्य को जन्म देती है।
  • सुमित्रानंदन पंत - वे आँखें
    ग्रामीण लोगोंके प्रति बौद्धिक सहानुभूती से ओतप्रोत कविताये इस संग्रह मे लिखी गयी है। ग्रामों की वर्तमान दशा प्रतिक्रियात्मक साहित्य को जन्म देती है।
  • सुमित्रानंदन पंत - गाँव के लड़के
    ग्रामीण लोगोंके प्रति बौद्धिक सहानुभूती से ओतप्रोत कविताये इस संग्रह मे लिखी गयी है। ग्रामों की वर्तमान दशा प्रतिक्रियात्मक साहित्य को जन्म देती है।
  • सुमित्रानंदन पंत - वह बुड्‌ढा
    ग्रामीण लोगोंके प्रति बौद्धिक सहानुभूती से ओतप्रोत कविताये इस संग्रह मे लिखी गयी है। ग्रामों की वर्तमान दशा प्रतिक्रियात्मक साहित्य को जन्म देती है।
  • सुमित्रानंदन पंत - धोबियों का नृत्य
    ग्रामीण लोगोंके प्रति बौद्धिक सहानुभूती से ओतप्रोत कविताये इस संग्रह मे लिखी गयी है। ग्रामों की वर्तमान दशा प्रतिक्रियात्मक साहित्य को जन्म देती है।
  • सुमित्रानंदन पंत - ग्राम वधू
    ग्रामीण लोगोंके प्रति बौद्धिक सहानुभूती से ओतप्रोत कविताये इस संग्रह मे लिखी गयी है। ग्रामों की वर्तमान दशा प्रतिक्रियात्मक साहित्य को जन्म देती है।
  • सुमित्रानंदन पंत - ग्राम श्री
    ग्रामीण लोगोंके प्रति बौद्धिक सहानुभूती से ओतप्रोत कविताये इस संग्रह मे लिखी गयी है। ग्रामों की वर्तमान दशा प्रतिक्रियात्मक साहित्य को जन्म देती है।
  • सुमित्रानंदन पंत - नहान
    ग्रामीण लोगोंके प्रति बौद्धिक सहानुभूती से ओतप्रोत कविताये इस संग्रह मे लिखी गयी है। ग्रामों की वर्तमान दशा प्रतिक्रियात्मक साहित्य को जन्म देती है।
  • सुमित्रानंदन पंत - गंगा
    ग्रामीण लोगोंके प्रति बौद्धिक सहानुभूती से ओतप्रोत कविताये इस संग्रह मे लिखी गयी है। ग्रामों की वर्तमान दशा प्रतिक्रियात्मक साहित्य को जन्म देती है।
  • सुमित्रानंदन पंत - चमारों का नाच
    ग्रामीण लोगोंके प्रति बौद्धिक सहानुभूती से ओतप्रोत कविताये इस संग्रह मे लिखी गयी है। ग्रामों की वर्तमान दशा प्रतिक्रियात्मक साहित्य को जन्म देती है।
  • सुमित्रानंदन पंत - कहारों का रुद्र नृत्य
    ग्रामीण लोगोंके प्रति बौद्धिक सहानुभूती से ओतप्रोत कविताये इस संग्रह मे लिखी गयी है। ग्रामों की वर्तमान दशा प्रतिक्रियात्मक साहित्य को जन्म देती है।
  • सुमित्रानंदन पंत - कठपुतले
    ग्रामीण लोगोंके प्रति बौद्धिक सहानुभूती से ओतप्रोत कविताये इस संग्रह मे लिखी गयी है। ग्रामों की वर्तमान दशा प्रतिक्रियात्मक साहित्य को जन्म देती है।
  • सुमित्रानंदन पंत - चरखा गीत
    ग्रामीण लोगोंके प्रति बौद्धिक सहानुभूती से ओतप्रोत कविताये इस संग्रह मे लिखी गयी है। ग्रामों की वर्तमान दशा प्रतिक्रियात्मक साहित्य को जन्म देती है।
  • सुमित्रानंदन पंत - महात्माजी के प्रति
    ग्रामीण लोगोंके प्रति बौद्धिक सहानुभूती से ओतप्रोत कविताये इस संग्रह मे लिखी गयी है। ग्रामों की वर्तमान दशा प्रतिक्रियात्मक साहित्य को जन्म देती है।
  • सुमित्रानंदन पंत - राष्ट्र गान
    ग्रामीण लोगोंके प्रति बौद्धिक सहानुभूती से ओतप्रोत कविताये इस संग्रह मे लिखी गयी है। ग्रामों की वर्तमान दशा प्रतिक्रियात्मक साहित्य को जन्म देती है।
  • सुमित्रानंदन पंत - ग्राम देवता
    ग्रामीण लोगोंके प्रति बौद्धिक सहानुभूती से ओतप्रोत कविताये इस संग्रह मे लिखी गयी है। ग्रामों की वर्तमान दशा प्रतिक्रियात्मक साहित्य को जन्म देती है।
  • सुमित्रानंदन पंत - संध्या के बाद
    ग्रामीण लोगोंके प्रति बौद्धिक सहानुभूती से ओतप्रोत कविताये इस संग्रह मे लिखी गयी है। ग्रामों की वर्तमान दशा प्रतिक्रियात्मक साहित्य को जन्म देती है।
  |  

Comments | अभिप्राय

Comments written here will be public after appropriate moderation.
Like us on Facebook to send us a private message.
TOP