Dictionaries | References

शंभरके भये साठ, आधे गये नाठ, दस् देएंगे, दस् दिलाएंगे, दस्का देना क्या?

( हिं.) असा अपमतलबी खाबू हिशेब. ( अगोदर शंभराचे साठ करुन घ्यावयाचे
त्यापैकीं निम्मे बाद
उरलेल्या तिसांपैकीं दहा दिले-दहा देतां येतील
राहिले दहा. मग हे कशाला ही द्यावयाचे ?)

Related Words

शंभरके भये साठ, आधे गये नाठ, दस् देएंगे, दस् दिलाएंगे, दस्का देना क्या?   साठ भल्लांचे पेंच   साठ   दस्   वर्ष साठ, विठोबानें केली पाठ   झाली साठ, कीं आली काठीशीं गांठ   मथुरा गये मथुरादास, गोकल गये तो गोकलदास   देएंगे दिलाएंगे (और लवडा बतलाएंगे)   तेरे पितर सरग भये   सब के साठ करना और बडोंका नाम चलाना   काळी कस्‍तुरी साठ रुपये तोळा   मन नाहीं राजी, तो क्या करेगा काजी   दस गये और पांच रहे   एक कहे लोहेको चुवा खाये, दुसरा बोले लडका ले गये चील   दाईके आगे पेट क्या छपाना   गंगा गये गंगादास, जमना गये जमनादास   गंगा गये गंगादास, मथुरा गये मथुरादास   साठ संवत्सर   एक तवेकी रोटी, क्या छोटी कया मोठी   दिल लगा गद्धीसे), पद‍मीन क्या इयांट है   गद्धा क्‍या जाने आदेका सवाद   रिकामा बनिया क्या करे, इधरकी टोकरी उधर भरे   एक मानें नै दिया आटा, तो क्या भुका मरेगा बेटा   रोहिणीनें गाळलें अंडें, मृगानें झाडली पाठ, तर पाऊस गेला दिवस तीनशें साठ   प्रीत जडे मेंडकीसे पद्‌भिनी क्या माल है   सय्या भये कोतवाल अब किसकी डर है   बेदर्द कसाई, क्या ज्याने पीड पराई   एक बायकोची पाठ, पासोड्या तीनशें साठ   रात गय और बातही गये   प्यार बैठा गद्धीपर तो पद्मीन क्या बात   अंधा क्या जाने लालकी बहार   मिया बिबी राजी, तो क्या करेगा काजी   आपना दाम खोटा, परखनेहारेको क्या बट्टा   उखलिमे सर दबातो धक्कोसे क्या डर   जिसका राम धनी, उसको क्‍या कमी   प्रीत जडे मेंडकीसे पद्‌भिनी क्या झ्यात है   पडियाका मोल देना, भैस उसके साथ लेना   चमडी देना मगर दमखी नहि छोडना   देना थोडा, दिलासा बहुत   गद्धीसे प्रीत जडी तो पद्मीन क्‍या है झ्याट   नसबिकी चाल, और सैतानका खेल, मगरेवकी जालम पकड गये शेर   काजीसाहेब क्या करना, हिंदूसे उलटा चलना   सैय्या भये कोतवाल अब किसकी डर है   साठ वर्षें रामायण रामास सीता काय होय   चंदन पडा चमार घर, नित उठ कूटै चाम, चंदन बिचारा क्‍या करे, परयो नीचसों काम   बडे बडे बह गये, गद्धा कहे कितना पानी   लेना एक और देना दो   दिल लगा मेंडकीसे, पद‍मीन क्या चीज है   नाल तो मिल गया, अब क्या रहा? जीन और घोडा   
: Folder : Page : Word/Phrase : Person

Search results

No pages matched!

Related Pages

  |  
  |  
: Folder : Page : Word/Phrase : Person

Comments | अभिप्राय

Comments written here will be public after appropriate moderation.
Like us on Facebook to send us a private message.
TOP