Dictionaries | References

बाह्रीक

See also :
बाह्रीक II. , बाह्रीक III. , बाह्रीक IV. , बाह्रीक V. , बाह्रीक VI. , बाह्रीक VII.
n.  (सो. पूरु.) कुरुवंशीय प्रतीप राजा का पुत्र, जो देवापि एवं शन्तनु का ज्येष्ठ भाई था [भा.९.२२] । इसकी माता का नाम सुनंदा था, जो शिबि देश की राजकन्या थी [म.आ.८९.५२] । शिबि राजा को पुत्र न था, जिस कारण यह उस राज्य का उत्तराधिकारी बन गया । प्रतीप का पुत्र होने से इसे ‘प्रातिपीय’ उपाधि प्राप्त थी । भागवत के अनुसार, इसके पुत्र का नाम सोमदत्त था [भा.९.२२.१८] । भारतीय युद्ध में, यह कौरवों के पक्ष में शामिल था । दुर्योधन की ग्यारह अक्षोहिणी सेनाओं के जो सेनापति चुने गये थे, उनमें यह भी एक था । यह स्वयं अतिरथि था [म.उ.१६४.२८] । धृष्टकेतु, द्रुपद, शिखण्डिन् आदि के साथ इसका युध हुआ था । अन्त में भीम ने इसका वध किया [म.द्रो.१३२.१५] । महाभारत में इसका नाम बाह्रीक, बहिलक, तथा बाह्रिक इन तीन प्रकारों में उपलब्ध है ।

Comments | अभिप्राय

Comments written here will be public after appropriate moderation.
Like us on Facebook to send us a private message.