Dictionaries | References

शंखचूड

शंखचूड n.  रामसेना का एक वानर। राम के द्वारा प्रशस्ति की जाने के कारण, यह सुग्रीव के कृपापात्र वानरों में से एक बना था [वा. रा. उ. ४०.७]
शंखचूड II. n.  एक विष्णुभक्त राक्षस, जो विप्रचित्ति राक्षस का पौत्र, एवं दंभ राक्षस का पुत्र था । इसकी पत्‍नी का नाम तुलसी था, जिससे इसने गांधर्वविवाह किया था । देवी भागवत में इसकी पत्‍नी का नाम पद्मिनी अथवा विरजा दिया गया है । अपने पूर्वजन्म में, यह सुदामन् नामक विष्णु-पार्षद था [दे. भा. ९.१८]
शंखचूड II. n.  इसकी पत्‍नी तुलसी के पातिव्रत्य के कारण, एवं विष्णु से प्राप्त किये विष्णुकवच के कारण, यह समस्त पृथ्वी में अजेय बन गया था । इसी कवच के बल से इसने देवों को त्रस्त करना प्रारंभ किया, एवं उनके राज्य यह हस्तगत करने लगा ।
शंखचूड II. n.  इसके दुष्कार्यों को देख कर, श्रीविष्णु ने इसका वध करने का निश्र्चय किया । तत्प्रीत्यर्थ उसने इसकी पत्‍नी तुलसी का पातिव्रत्यप्रभाव नष्ट किया, एवं तत्पश्चात् एक ब्राह्मण का रूप धारण कर, इससे विष्णुकवच भी दान के रूप में प्राप्त किया । तदुपरांत शिव ने काली के समवेत इस पर आक्रमण किया, एवं विष्णु के द्वारा दिये गये शूल की सहायता से इसका वध किया । इस युद्ध में शिव की ओर से काली, एवं इसकी ओर से तमाम राक्षसियों ने भाग लिया था ।
शंखचूड II. n.  इसकी मृत्यु के पश्चात्, इसके हड्डियों से शंख बने, जिन्हें विष्णुपूजा में अग्रमान प्राप्त हुआ । शंकर को छोड़ कर अन्य देवताओं पर डाला गया जल तीर्थजल के समान पवित्र माना जाता है । इसका शब्द भी शुभ माना जाता है, किंतु इसके ऊपर तुलसीदल चढ़ाना निषिद्ध एवं अशुभ माना गया है [दे. भा. ९.१७.२५];[ ब्रह्मवै. २.१६-२०];[ शिव. रुद्र. यु. २७-४०],
शंखचूड III. n.  पाताल में रहनेवाला एक प्रमुख नाग [भा. ५.२४.३१]
शंखचूड IV. n.  एक यक्ष, जो कुबेर का अनुचर था । एक बार इसने गोकुल में रहनेवाली कई गोपियों का हरण किया, जिस कारण कृष्ण ने इसका वध किया, एवं इसके सिर का मणि बलराम को अर्पण किया [भा. १०.३४.२५-३२]

Related Words

: Folder : Page : Word/Phrase : Person

Keyword Pages

  • शंखचूडाची कथा
    हिंदू धर्मातील पुराणे अतिप्राचीन असून त्यातील कथा उच्च संस्कृतीच्या प्रतिक आहेत.
: Folder : Page : Word/Phrase : Person

Related Pages

: Folder : Page : Word/Phrase : Person

Comments | अभिप्राय

Comments written here will be public after appropriate moderation.
Like us on Facebook to send us a private message.
TOP