TransLiteral Foundation
Don't follow traditions blindly or don't assume a superstition either.
Don't be intentionally ignorant. Ask us!! Make Informed Religious Decisions!!

v vasudha patil

: Folder : Page : Word/Phrase : Person


Comments | अभिप्राय

Comments written here will be public after appropriate moderation.
Like us on Facebook to send us a private message.

रथवीति (दार्भ्य)

  • n. एक ऋषि, जो हिमालय के दूरस्थ पर्वतों में गायों से परिपूर्ण (गोंतीर अनु) प्रदेश मे रहता था [ऋ. ५.६१.१७.-१९] । एक वार अंधिगु श्यावाश्व नामक आचार्य ने, तरंत नामक राजा के यज्ञ में होमकर्म करने के लिए इसे आमंत्रित किया । उस समय यह अपनी कन्या को साथ ले कर यज्ञ करने गया । वहाँ श्यावाश्व के पिता अर्चनानस आत्रेय ने अपने वेदवेत्ता पुत्र के लिए इसके कन्या की माँग की । किन्तु इसने साफ इन्कार कर दिया, एवं श्यावाश्व को अपने यज्ञ से बाहर निकाल दिया । किन्तु अंत में तरन्त राजा के कहने पर इसने अपनी कन्या श्यावाश्व को दे दी [ऋ. सायणभाष्य ५.६१] । वृहद्देवता के अनुसार, तरन्त राजा को शशीयसी नामक पत्नी से एक पुत्र उत्पन्न हुआ था, जिसके लिए उसने रथवीति के कन्या की माँग की थी [वृहद्दे. ५.५०.८१] । आधुनिक विद्वानों के अनुसार रथवीति दार्भ्य एक आचार्य न हो कर एक राजा था. एवं श्यावाश्व इसका पुत्र था । श्यावाश्व ने अपने पिता एवं मरुतों की सहाय्यता से अपने लिए एक पत्नी प्राप्त की थी, जिसका निर्देश ऋग्वेद के उपर्युक्त सूक्त्त में प्राप्त है [ओल्डेनवर्ग: ऋग्वेद नोटेन. १.३५३-३५४] 
RANDOM WORD

Did you know?

पंचप्राणांना भोजनापूर्वी आहुती का द्यावी ?
Category : Hindu - Beliefs
RANDOM QUESTION
Don't follow traditions blindly or ignore them. Don't assume a superstition either. Don't be intentionally ignorant. Ask us!!
Hindu customs are all about Symbolism. Let us tell you the thought behind those traditions.
Make Informed Religious decisions.

Featured site

Ved - Puran
Ved and Puran in audio format.