Dictionaries | References

सुचंद्र III.

See also :
सुचंद्र , सुचंद्र II. , सुचंद्र IV. , सुचंद्र V.
n.  (सू. दिष्ट.) एक राजा, जो ब्रह्मांड के अनुसार हेमचंद्र राजा का पुत्र था [ब्रह्मांड. ३.६१.१३] । इसे काली देवी की कृपा से एक कवच प्राप्त हुआ था, जिस कारण यह युद्ध में अजेय हुआ था । कार्तवीय एवं परशुराम के बीच हुए युद्ध में यह कार्तवीर्य के पक्ष में शामिल था [ब्रह्मांड. ३.३९.१८-५३] । उस समय इसके रथ में स्वयं कालीदेवी अवतीर्ण हुई, जिसने परशुराम के द्वारा फेंके गये हर एक शस्त्रअस्त्र को भक्ष्य करना प्रारंभ किया । इस कारण भयभीत हो कर परशुराम ने इसे अपना ‘कालीकवच’ उतार कर देने की प्रार्थना की। इस पर इस उदारचरित राजा ने अपना कवच उतार कर परशुराम को दे दिया । कवच प्राप्त होते ही परशुराम ने इसका वध किया ।

Comments | अभिप्राय

Comments written here will be public after appropriate moderation.
Like us on Facebook to send us a private message.