• Register

संत ज्ञानेश्वरांनि हे म्हटले आहे का ?

395 views
''गीता में वेदों के तीनों काण्ड स्पष्ट किये गये हैं अतः वह मूर्तिमान वेदरूप हैं और उदारता में तो वह वेद से भी अधिक है | अगर कोई दूसरों को गीताग्रंथ देता है तो जानो कि उसने लोगों के लिए मोक्षसुख का सदाव्रत खोला है | गीतारूपी माता से मनुष्यरूपी बच्चे वियुक्त होकर भटक रहे हैं | अतः उनका मिलन कराना यह तो सर्व सज्जनों का मुख्य धर्म है |'' जर नाही तर कृपया त्यांनी जे भगवद गीतेवर मत सांगितले आहे ते सांगण्याची कृपा करावी. ज्ञानोबा तुकाराम !!
asked Apr 28, 2016 in Vedic Literature by Manohar Krishna Pati (60 points)

1 Answer

0 votes
 
Best answer
शके बाराशतें बारोत्तरें । तैं टीका केली ज्ञानेश्वरें । सच्चिदानंदबाबा आदरें । लेखकु जाहला ॥ १८११ ॥

ज्ञानेश्वरीतील हा श्लोक पहा.

ज्ञानेश्वरांनी फक्त टीका केली कोठेही आपले मत व्यक्त केलेले नाही.
answered Jul 5, 2016 by TransLiteral (9,340 points)
selected Aug 24, 2016 by TransLiteral Admin

Related questions

...