TransLiteral Foundation
Don't follow traditions blindly or don't assume a superstition either.
Don't be intentionally ignorant. Ask us!! Make Informed Religious Decisions!!
संस्कृत सूची|संस्कृत साहित्य|स्तोत्र भारती कण्ठहारः|
श्रीगौडपादगोविन्दशंकरगुरुस्तव:

श्रीगौडपादगोविन्दशंकरगुरुस्तव:

स्वामि श्री भारतीकृष्णतीर्थ यांनी जी देवदेवतांवी स्तुती केली आहे, अशी क्वचितच् इतरांनी कोणी केली असेल.


श्रीगौडपादगोविन्दशंकरगुरुस्तव: [ उपजाति: ]
वैराग्यचित्तप्रशमाक्षिनिग्रह -
मुख्याढ्यलभ्याङ्घ्रिसर:समुद्भवान् ।
सरागहृददुर्लभपादवीक्षणान्
गौडाङ्घ्रिगोविन्दजगद्गुरून्भजे ॥१॥
पादाम्बुसंजातविनम्रलोकदु -
र्मृत्यामयव्रातजरादिकृन्तनान् ।
चतुर्मठाचार्यपरम्परार्चितान्
गौडाङ्घ्रिगोविन्दजगद्गुरून्भजे ॥२॥
क्षराक्षरातीतपुमुत्तमाकृति -
स्वकीयतत्त्वात्ममहारहस्यदान्
व्यासार्यतत्सोनुपरम्परागतान्
गौडाङ्घ्रिगोविन्दजगद्गुरून्भजे ॥३॥

Translation - भाषांतर
N/A

References : N/A
Last Updated : 2016-11-11T11:55:51.1300000

Comments | अभिप्राय

Comments written here will be public after appropriate moderation.
Like us on Facebook to send us a private message.

श्र्वेताश्र्वतर

  • n. एक आचार्य, जो श्र्वेताश्र्वेतर नामक सुविख्यात उपनिषद का रचयिता माना जाता है [श्र्वेताश्र्वतर ६.२१] । इसने स्वायंभुव ऋषि से ब्रह्मविद्या प्राप्त की थी । इसके नाम की एक कृष्णयजुर्वेदी शाखा भी उपलब्ध है । इसके नाम पर श्र्वेताश्र्वतर नामक एक ब्राह्मण ग्रंथ भी निर्दिष्ट है, जो वर्तमानकाल में केवल नाममात्र ही उपलब्ध है । 
  • श्र्वेताश्र्वतर उपनिषद n. समस्त उपनिषद् वाङमय में श्र्वेताश्र्वतर उपनिषद एक महत्त्वपूर्ण ग्रंथ माना जाता है (रुद्रशिव देखिये) । ईश्र्वर समस्त सृष्टि का शास्ता एवं नियंता है, यही इस उपनिषद का प्रमुख प्रतिपाद्य विषय है । दर्शनशास्त्रों में से सांख्य एवं वेदान्त दर्शन जब एक ही शास्त्र माने जाते थे, उस समय इस ग्रंथ की रचना की थी । इस उपनिषद के पहले अध्याय में त्रैमूर्त्यात्मक अद्वैत शैवमत की श्रेष्ठता प्रतिपादन की गयी है । दूसरे अध्याय में योग एवं योगपरिणाम का प्रतिपादन किया गया है । तीसरे एवं चौथे अध्याय में सांख्य शैव मत का कथन प्राप्त है । पाँचवे अध्याय के दूसरे मंत्र में कपिल शब्द की अध्यात्मिक निरूक्ति दी गयी है । छठे अध्याय में सगुण ईश्र्वर का वर्णन प्राप्त है, जो सांप्रदाय-निरपेक्ष होने के कारण अत्यंत महत्त्वपूर्ण माना जाता है । 
RANDOM WORD

Did you know?

उगवत्या सूर्याला नमस्कार, मावळत्या का नाही?
Category : Hindu - Traditions
RANDOM QUESTION
Don't follow traditions blindly or ignore them. Don't assume a superstition either. Don't be intentionally ignorant. Ask us!!
Hindu customs are all about Symbolism. Let us tell you the thought behind those traditions.
Make Informed Religious decisions.

Featured site

Status

  • Meanings in Dictionary: 644,289
  • Dictionaries: 44
  • Hindi Pages: 4,328
  • Total Pages: 38,982
  • Words in Dictionary: 302,181
  • Tags: 2,508
  • English Pages: 234
  • Marathi Pages: 22,630
  • Sanskrit Pages: 11,789
  • Other Pages: 1

Suggest a word!

Suggest new words or meaning to our dictionary!!

Our Mobile Site

Try our new mobile site!! Perfect for your on the go needs.