TransLiteral Foundation
Don't follow traditions blindly or don't assume a superstition either.
Don't be intentionally ignorant. Ask us!! Make Informed Religious Decisions!!

शिवानन्दलहरी - श्लोक ८६ ते ९०

शिवानंदलहरी में भक्ति -तत्व की विवेचना , भक्त के लक्षण , उसकी अभिलाषायें और भक्तिमार्ग की कठिनाईयोंका अनुपम वर्णन है । `शिवानंदलहरी ' श्रीआदिशंकराचार्य की रचना है ।


श्लोक ८६ ते ९०

८६

पूजाद्वव्यसमृद्वयो विरचिताः पूजां कथं कुर्महे

पक्षित्वं न च वा किटित्वमपि न प्राप्तं मया दुर्लभम् ।

जाने मस्तकमंघ्रिपल्लवमुमाजाने न तेऽहं विभो

न ज्ञातं हि पितामहेन हरिणा तत्त्वेन तद्रूपिणा ॥८६॥

 

८७

अशनं गरलं फणी कलापो

वसनं चर्म च वाहनं महोक्षः

मम दास्यसि किं किमस्ति शंभो

तव पादाम्बुजभक्तिमेव देहि ॥८७॥

 

८८

यदा कृताम्भोनिधिसेतुबन्धनः

करस्थलाद्यः कृतपर्वताधिपः ।

भवानि ते लंघितपद्मसंभवः

तदा शिवार्चास्तवभावनक्षमः ॥८८॥

 

८९

नतिभिर्नुतिमिस्त्वमीश पूजा -

विधिभिर्ध्यानसमाधिभिर्न तुष्टः ।

धनुषा मुसलेन चाश्मभिर्वा

वद ते प्रीतिकरं तथा करोमि ॥८९॥

९०

वचसा चरितं वदामि शंभो -

रहमुद्योगविधासु तेऽप्रसक्तः ।

मनसा कृतिमीश्वरस्य सेवे

शिरसा चैव सदाशिवं नमामि ॥९०॥

Translation - भाषांतर

हे उमानाथ ! मैंने पूजा की सारी आवश्यक सामग्री एकत्र कर ली । तब भी मैं आपकी पूजा कैसे करुँ ? मैं ब्रह्या की भाँति हंस अथवा विष्णु की भाँति शूकर रुप भी धारण नहीं कर सकता । यह मेरे लिये दुर्लभ है । हे सर्वव्यापी प्रभु ! न तो आपके मस्तक तक पहुँच सकता हुँ न आपके चरण कमलों तक । मैं तो क्या , ब्रह्या और विष्णू भी , हंस और शूकर रुप धारण कर , आपके सम्पूर्ण शरीर के ओर छोर तक नहीं पहुँच सके । ॥८६॥

हे शंभॊ ! विष आपका भॊजन है , सर्प आपके आभूषण हैं , गजचर्म अथवा व्याघ्रचर्म आपके वस्त्र हैं , और बड़ा -सा बैल आपकी सवारी है । आप मुझे क्या देगें ? आपके पास देने को क्या है ? आप तो मुझे केवल चरणकमलों की भक्ति प्रदान करने की कृपा करें । ॥८७॥

हे भगवान शिव ! मैं आपकी पूजा करने , प्रार्थना करने और ध्यान करने के लिये तभी सक्षम हो सकता हूँ जब मैं भगवान् राम की भाँति समुद्र पर सेतु बना सकूँ , अथवा अगस्त्य मुनि की भाँति अपनी हथेली से विन्ध्याचल पर्वत उठा सकूँ , अथवा श्रीकृष्ण के समान ब्रह्या से भी बड़ा बन जाऊँ । ॥८८॥

इस पद्य को समझने के लिये कई शिव लीलाओं का स्मरण करना होगा । अर्जुन जब दिव्यास्त्रों के लिये तपस्या कर रहा था तो भगवान् शिव किरात के रुप में प्रकट हुए और एक जंगली सूअर पर विवाद के बाद दोनों में बाणॊं से युद्व हुआ । अर्जुन जब भगवान् शिव को नहीं हरा सका तो उसने पैर पकड़ लिये और शिव ने , प्रसन्न होकर , पाशुपत अस्त्र प्रदान किया ।

दक्षिण भारत की एक पुण्यकथा के अनुसार शीलवती को धान कूट कर शिवभक्तों को भॊजन कराने का काम सोंपा गया । वह शिव भक्तों को भॊजन कराने के बाद वचे -खुचे धान से अपना पेट भरती थी । एक बार भगवान् शिव वेष बदलकर उसके यहाँ आये किन्तु उन्होंने शीलवती का भोजन स्वीकार नहीं किया । क्रुद्व शीलवती मूसल होकर दौंड़ी । भगवान् शिव उसकी भक्ति से प्रसन्न हुए।

शाक्य नायनार फूलों से भगवान् शिव की पूजा नहीं कर सकता था , क्योंकी वह विधर्मियों के बीच में रहता था । वह प्रतिदिन भगवान् की पूजा कंकड़ी फेंक कर करता था , और उसने अपना ह्रदय भगवान् को अर्पण कर दिया । भगवान् प्रसन्न हुए ।

हे स्वामी ! आप बन्दन से , स्तुति से , विधि -विधान युक्त पूजा से , ध्यान -समाधि से सन्तुष्ट नहीं होते । क्या बाण चलाकर , मूसल उठाकर , कंकड़ फेंक कर आपकी पूजा करुँ ? बताइये , आपको जो अच्छा लगे मैं वही करुँ । ॥८९॥

हे शम्भो ! मैं आपके ध्यान में दत्तचित्त नहीं रह पाता हूँ । इसलिये वाणी से आपकी लीलाओं का गान करता हूँ , मन से आपके रुप का स्मरण करता हूँ , और शिर से सदाशिव को प्रणाम करता हूँ । ॥९०॥


References : N/A
Last Updated : 2016-11-11T11:54:58.9430000

Comments | अभिप्राय

Comments written here will be public after appropriate moderation.
Like us on Facebook to send us a private message.

आनोविन

  • वि. वाटेल तसें ; अशास्त्र रीतीनें . अन्योविन्य पहा . बसतां एकत्र आनोविन । होईल जघन्य निमीषें । - निगा २८५ . 
RANDOM WORD

Did you know?

मनुष्याच्या जीवनात स्नानाचे महत्त्व काय ?
Category : Hindu - Traditions
RANDOM QUESTION
Don't follow traditions blindly or ignore them. Don't assume a superstition either. Don't be intentionally ignorant. Ask us!!
Hindu customs are all about Symbolism. Let us tell you the thought behind those traditions.
Make Informed Religious decisions.

Featured site

Latest Pages

Status

  • Meanings in Dictionary: 644,289
  • Dictionaries: 44
  • Hindi Pages: 4,328
  • Total Pages: 38,982
  • Words in Dictionary: 302,181
  • Tags: 2,508
  • English Pages: 234
  • Marathi Pages: 22,630
  • Sanskrit Pages: 11,789
  • Other Pages: 1

Suggest a word!

Suggest new words or meaning to our dictionary!!

Our Mobile Site

Try our new mobile site!! Perfect for your on the go needs.