TransLiteral Foundation
Don't follow traditions blindly or don't assume a superstition either.
Don't be intentionally ignorant. Ask us!! Make Informed Religious Decisions!!

शिवानन्दलहरी - श्लोक ७१ ते ७५

शिवानंदलहरी में भक्ति -तत्व की विवेचना , भक्त के लक्षण , उसकी अभिलाषायें और भक्तिमार्ग की कठिनाईयोंका अनुपम वर्णन है । `शिवानंदलहरी ' श्रीआदिशंकराचार्य की रचना है ।


श्लोक ७१ ते ७५

७१

आरुढ़भक्तिगुणकुच्चितभावचाप -

युक्तै ःशिवस्मरणबाणगणैरमोघैः ।

निर्जित्य किल्बिषरिपून्विजयी सुधीन्द्रः

सानन्दमाविहति सुस्थिरराजलक्ष्मीम् ॥७१॥

 

७२

ध्यानाज्जनेन समवेक्ष तमःप्रदेशं

भित्वा महाबलिभिराश्वरनाममन्त्रैः ।

दिव्याश्रितं भुजगभूषणमुद्वहन्ति

ये पादपद्ममिह ते शिव ते कृता्र्थः ॥७२॥

 

७३

भूदारतामुदवहद्यदपेक्षया श्री -

भूदार एव कि्मतःसुमते लभस्व ।

केदारमाकलितमुक्तिमहौषधीनां

पादारविन्दभजनं परमेश्वरस्य ॥७३॥

 

७४

आशापाशक्लेशदुर्वासनादि -

भेदोद्युक्तैर्दिव्यगन्धैरमन्दैः ।

आशाशाटीकस्य पादारविन्दं

चेत ःपेटीं वासितां मे तनोतु ॥७४॥

 

७५

कल्याणिनं सरसचित्रगतिं सवेगं

सर्वेड्रि .तज्ञमनधं ध्रुवलक्षणाढयम् ।

चेतस्तुरड्र .मधिरुह्य चर स्मरारे

नेत ः समस्तजगतां बृषभाधिरुढ ॥७५॥

Translation - भाषांतर

सुदृढ़ भक्तिरुपी प्रत्यच्चा से चिन्तनरुपी धनुष को खींचकर , शिवस्मरणरुपी अमोघ बाणॊं से पापरुपी शत्रुओं को जीतकर विजयी , मनीषी सानन्द अचल राजलक्ष्मी -मोक्ष -प्राप्त करते हैं । ॥७१॥

( छीपे हुए खजाने को ढूँढने के लिये , कहते हैं , पहले आँखों में जादू का अच्चन लगाना होता है । फीर प्रवेश प्राप्त करने के लिये मन्त्रों सहित बलि दी जाती है ) ध्यानरुपी अच्चन आँखों में लगाकर , ईश्वरनामरुपी मन्त्रों से युक्त आवश्यक बलि द्वारा अंधकारयुक्त प्रदेश में मार्ग निकाल कर , देवताओं से सेवित , और सर्पो के आभूषणों से सुशोभित , आपके चरण कमलों को जो प्राप्त करते हैं वे ही धन्य हैं । ॥७२॥

हे मेरे मन ! भगवान् शिव के चरण -कमलों का आश्रय ले । ये चरण कमल उस जुती हुई , पानी से भरी हुई , मुक्तिरुपी महाऔषध की क्यारी के समान हैं जिसकीं मुझे अभिलाषा है । यह पादपद्मभूमि अत्यंत दुर्लभ है । जब श्री और भू के पति , महाविष्णु ने शूकर रुप धारण कर इसे खोजने का प्रयत्न किया तो वे भी सफल नहीं हुए । ॥७३॥

मेरा मन आशा -दुराशा , क्लेश और बुरी भावनाओ की दुर्गन्ध से भरा हुआ है । दिगम्बर भगवान शिव के चरण -कमलों की दिव्य सुगन्ध , इस दुर्गन्ध को हटाकर , मेरे चित्तरुपी वक्से को सुगन्धित करे। ॥७४॥

हे कामदेव को पराजित करनेवाले जगत के स्वमी ! आप बैल की सवारी करते हैं । मेरा चित्तरुपी तुरड्र . आपकी सेवा के लिये उपयुक्त है । यह शुभदर्शन है , मनोहर विचित्र गतिवाला है , और द्रुतगामी है । यह अपने स्वामी के प्रत्येक आशय को समझ सकता है , और शुभलक्षणों से सुशोभित है । आप इस पर सवार होकर विचरण करें । ॥७५॥


References : N/A
Last Updated : 2016-11-11T11:54:58.7870000

Comments | अभिप्राय

Comments written here will be public after appropriate moderation.
Like us on Facebook to send us a private message.

उपसवें

  • क्रि.वि. जवळ ; सन्निध . आपण बैसे उपसवें नेटी ॥ - नव १६ . ४० . [ सं . उप + वस वर्णव्यत्यय ] 
RANDOM WORD

Did you know?

श्रावण महिन्यांत महादेवाच्या पिंडीवर दुधाचा अभिषेक कां करावा? त्याचे पुण्य काय?
Category : Hindu - Puja Vidhi
RANDOM QUESTION
Don't follow traditions blindly or ignore them. Don't assume a superstition either. Don't be intentionally ignorant. Ask us!!
Hindu customs are all about Symbolism. Let us tell you the thought behind those traditions.
Make Informed Religious decisions.

Featured site

Latest Pages

Status

  • Meanings in Dictionary: 644,289
  • Dictionaries: 44
  • Hindi Pages: 4,328
  • Total Pages: 38,982
  • Words in Dictionary: 302,181
  • Tags: 2,508
  • English Pages: 234
  • Marathi Pages: 22,630
  • Sanskrit Pages: 11,789
  • Other Pages: 1

Suggest a word!

Suggest new words or meaning to our dictionary!!

Our Mobile Site

Try our new mobile site!! Perfect for your on the go needs.