TransLiteral Foundation

शिवानन्दलहरी - श्लोक ५१ ते ५५

शिवानंदलहरी में भक्ति -तत्व की विवेचना , भक्त के लक्षण , उसकी अभिलाषायें और भक्तिमार्ग की कठिनाईयोंका अनुपम वर्णन है । `शिवानंदलहरी ' श्रीआदिशंकराचार्य की रचना है ।


श्लोक ५१ ते ५५

५१

भृड्री .च्छानटनोत्क टः करिमदग्राही स्फुरन्माधवा -

ह्रादो नादयुतो महासितवपुः पच्चेषुणा चादृ तः ।

सत्प क्षःसुमनोवनेषु स प नः साक्षान्मदीये मनो -

राजीवे ममराधिपो विहरतां श्रीशैलवासी वि भुः ॥५१॥

 

५२

कारुण्यामृतवर्षिणं घनविपद्गग्रीष्मच्छिदाकर्मठं

विद्यासस्यफलोदयाय सुमनः संसेव्यमिच्छाकृतिम् ।

नृत्यद्वक्तमयूरमद्रिनिलयं चंचज्जटामण्डलं

शंभो वाच्छति नीलकंधर सदा त्वां मे मनश्चात कः ॥५२॥

 

५३

आकाशेन शिखी समस्तफणिनां नेत्रा कलापी नता -

ऽनुग्राहिप्रणवोपदेशनिन दैःकेकीति यो गीयते ।

श्यामां शैलसमुद्ववां घनरुचिं दृष्ट्‍वा नटन्तं मुदा

वेदान्तोपवने विहाररसिकं तं नीलकण्ठं भजे ॥५३॥

( इस पद्य में भगवान नीलग्रीव और नीले कण्ठ वाले मोर का साथ - साथ वर्णन हैं )

 

५४

संध्या घर्मदिनात्ययो हरिकराघात प्रभूतानक -

ध्वानो वारिदगर्जित्म दिविषदां दृष्टिच्छटा चच्चला ।

भक्तानां परितोषवाष्पविततिर्वृष्टिर्मयूरी शिवा

यस्मित्रुज्ज्वलताण्डवं विजयते तं नीलकण्ठं भजे ॥५४॥

५५

आद्यायामिततेजसे श्रुतिपदैर्वेद्याय साध्याय ते

विद्यानन्दमयात्मने त्रिजग तः संरक्षणोद्योगिने ।

ध्येयायाखिलयोगि भिः सुरगणैर्गेयाय मायाविने

सम्यक्ताण्डवसंभ्रमाय जटिने सेयं न तिः शंभवे ॥५५॥

Translation - भाषांतर

पिछले पद्य की भाँति , इस पद्य में नीलकण्ठ नटराज और वर्षा ऋतु में , बादलों की गर्जना और विजली के चमक में मुग्ध मोरनी के सामने नाचते हुए मोर का साथ -साथ वर्णन है ।

प्रदोष काल में (गर्मी की समाप्ति के बाद वर्षा ऋतु में ) महाविष्णु द्वारा बडे़ ढ़ोल के वजने के साथ (बादलों की गर्जना के साथ ), देवों की विजली -जैसी चमकती नेत्र पंक्तियों के समक्ष , परितुष्ट भक्तों की अश्रुधाराओं के बीच (वर्षा में पानी से भीगते हुए ), शिवा (मयूरी ) के सामने नृत्य करते हुए नटराज शिव की मैं पूजा करता हूँ । उनके दिव्य ताण्डव नृत्य की जय । ॥५४॥

श्रीशैलनिवासी भ्रमराम्बिका पति भगवान् शिव भ्रमरराज के समान हैं । जिस प्रकार भ्रमर अपनी प्रियतमा को रिझाने के लिये नृत्य करता है , भगवान् शिव अपने पार्षद भृड्री . (अथवा ऋषि श्रेष्ठ भृड्री .) के लिये नटराजरुप में नृत्य करते हैं । भ्रमर गजराजों के मद का पान करते हैं , वैसे ही भगवान शिव ’करिमदग्राही ’, गजदानव का गर्व खण्डित करने वाले हैं । भ्रमर वसन्त ऋतु में आनन्दित होते हैं , भगवान शिव महाविष्णु के साथ आनन्दित होते हैं । भ्रमर गुंजार करते हैं , भगवान शिव ओंकार के नाद से प्रसन्न होते हैं । भगवान शिव साक्षात् कामदेव की कान्ति को भी लज्जित करने वाले हैं । सत्पुरुषों के रक्षक शिव मेरे ह्रदय -कमल में निवास करें । ॥५१॥

हे नीलकंठ महादेव ! मेरा चित्तचातक सदा आपके करुणारुपी अमृत बरसाने वाले जलधर की अभीप्सा करता है । जलधर की भाँति , हे शंभो ! आप भयंकर विपदारुपी गीष्म का अन्त करने में प्रवीण हैं । जलधर की भाँति आप विद्यारुपी खेती की उपज के लिये लाभदायक हैं । देवता आपकी सेवा में रहते हैं , और आप इच्छावपुधारी हैं । भक्तरुपी मयूर आपके चारों ओर नाचते रहते हैं । आप कैलास गिरि पर निवास करने वाले हैं । विजली -सी आपकी चच्चल जटाएँ हैं । ॥५२॥

मैं मोर के समान नीलकण्ठ भगवान शिव का भजन करता हूँ । नीलग्रीव शिव का मुकुट आकाश है , जैसे मोर की शिखा होती है । भगवान् शिव सर्पराज का आभूषण धारण करते हैं ; मोर सर्पो के बलवान शत्रु होने के कारण उनपर शासन करते हैं । शिवजी श्रृंगार किये हुए रहते हैं ; मोर अपनी रंग -विरंगी पूँछ से सुशोभित होता है । जो भगवान के सामने नतमस्तक होते हैं , उन्हें वे प्रणव मन्त्र (ऊँ ) द्वारा उपदेश देते हैं ; मोर केकी ध्वनि करता है । गिरिजा भवानी को देखकर भगवान शिव आनन्द में नृत्य करते है ; मोर बादलों को देखकर नाचता है । ॥५३॥

पिछले पद्य की भाँति , इस पद्य में नीलकण्ठ नटराज और वर्षा ऋतु में , बादलों की गर्जना और विजली के चमक में मुग्ध मोरनी के सामने नाचते हुए मोर का साथ -साथ वर्णन है ।

प्रदोष काल में (गर्मी की समाप्ति के बाद वर्षा ऋतु में ) महाविष्णु द्वारा बडे़ ढ़ोल के वजने के साथ (बादलों की गर्जना के साथ ), देवों की विजली -जैसी चमकती नेत्र पंक्तियों के समक्ष , परितुष्ट भक्तों की अश्रुधाराओं के बीच (वर्षा में पानी से भीगते हुए ), शिवा (मयूरी ) के सामने नृत्य करते हुए नटराज शिव की मैं पूजा करता हूँ । उनके दिव्य ताण्डव नृत्य की जय । ॥५४॥

जो सबके आदि कारण हैं , अमिताभ हैं , वेदों से उनके बारे में ज्ञान प्राप्त किया जा सकता है , जो भक्ति द्वारा प्राप्य हैं , ज्ञान और आनन्द स्वरुप हैं , तीनों लोकों के संरक्षण के उद्योग में तत्पर हैं , समस्त योगियों के ध्यान के विषय हैं , देवता लोग उनकी स्तुति करते हैं , जो मायापति हैं , जो अद्भभुत ताण्डव नृत्य में आनंदित हैं , उन जटाधारी शिव -शंभु के लिये मेरा यह नमस्कार । ॥५५॥


References : N/A
Last Updated : 2016-11-11T11:54:58.5830000

Comments | अभिप्राय

Comments written here will be public after appropriate moderation.
Like us on Facebook to send us a private message.

forage crop

  • चराऊ पीक 
  • वैरणीचे पीक 
  • चाऱ्याचे पीक 
RANDOM WORD

Did you know?

हिंदू धर्मात ३३ कोटी देवता आहेत काय?
Category : Hindu - Beliefs
RANDOM QUESTION
Don't follow traditions blindly or ignore them. Don't assume a superstition either. Don't be intentionally ignorant. Ask us!!
Hindu customs are all about Symbolism. Let us tell you the thought behind those traditions.
Make Informed Religious decisions.

Featured site

Ved - Puran
Ved and Puran in audio format.

Latest Pages

Status

  • Meanings in Dictionary: 644,289
  • Dictionaries: 44
  • Hindi Pages: 4,328
  • Total Pages: 38,982
  • Words in Dictionary: 302,181
  • Tags: 2,508
  • English Pages: 234
  • Marathi Pages: 22,630
  • Sanskrit Pages: 11,789
  • Other Pages: 1

Suggest a word!

Suggest new words or meaning to our dictionary!!

Our Mobile Site

Try our new mobile site!! Perfect for your on the go needs.