TransLiteral Foundation
Don't follow traditions blindly or don't assume a superstition either.
Don't be intentionally ignorant. Ask us!! Make Informed Religious Decisions!!

शिवानन्दलहरी - श्लोक ३१ ते ३५

शिवानंदलहरी में भक्ति -तत्व की विवेचना , भक्त के लक्षण , उसकी अभिलाषायें और भक्तिमार्ग की कठिनाईयोंका अनुपम वर्णन है । `शिवानंदलहरी ' श्रीआदिशंकराचार्य की रचना है ।


श्लोक ३१ ते ३५

३१

नालं वा परमोपकारकमिदं त्वेकं पशूनां पते !

पश्यन्कुक्षिगतांश्चराचरगणान्बाह्यास्थितान्रक्षितुम् ।

सर्वामर्त्यपलायनौषधमतिज्वालाकरं भीकरं

निक्षिप्तं गरलं गले न गिलितं नोद्गगीर्णमेव त्वया ॥३१॥

 

३२

ज्वालोग्र ः सकलामरातिभयद ःक्ष्वेल ःकथं वा त्वया

दृष्ट ः किं च करे धृत ः करतले किं पक्वजम्बूफलम् ।

जिढायां निहितश्च सिद्वघुटिका वा कण्ठदेशे भृत ः

किं ते नीलमणिर्विभूषणमयं शंभो महात्मन्वद ॥३२॥

 

३३

नालं वा सकृदेव देव भवत ः सेवा नतिर्वा नुति ः

पूजा वा स्मरणं कथाश्रवणमप्यालोकनं मादृशाम् ।

स्वामित्रस्थिरदेवतानुसरणायासेन किं लभ्यते

 

३४

किं ब्रूमस्तव साहसं पशुपते कस्यास्ति शंभो भव -

द्वैर्य चेदृशमात्मन ः श्तितिरियं चान्यै ः कथं लम्यते ।

भ्रश्यद्देवगणं त्रसन्मुनिगणं नश्यत्प्रपच्चं लयं

पश्यत्रिर्भय एक एव विहरत्यानन्दसान्द्रो भवान् ॥३४॥

 

३५

योगक्षेमधुरंधरस्य सकलश्रेय ः प्रदोद्योगिनो

दृष्टादृष्टमतोपदेशकृतिनो बाह्यान्तरव्यापिन ः ।

सर्वज्ञस्य दयाकरस्य भवत ः किं वेदितव्यं मया

शंभो त्वं पतमान्तरड्र . इति मे चित्ते स्मराम्यन्वहम् ॥३५॥

Translation - भाषांतर

हे पशुपति ! क्या यह आपका अद्वितीय परम उपकार पर्याप्त नहीं है कि जिस कालकूट विष के समुद्र से निकलते ही देवता भाग खड़े हुए थे , उसे आपने , अपने पेट में स्थित जड़ -चेतन गण को देखकर , और बाहर के प्राणियों की रक्षा के लिये न निगला न उगला । वह बड़ा तप्त और भयावह विष था। ॥३१॥

भगवान् शिव के परम प्रसिद्व अद्बभुत विषपान की कथा से प्रभावित भक्त आश्चर्यचकित हैं । उन्होंने ऐसे भयंकर हलाहल को कैसे देखा होगा , कैसे हाथ में लेकर हथेली पर रखकर जिह्रा से गले में उतारा होगा ? किन्तु ऐसे गले में रखकर तो भगवान् शिवशंकर नीलग्रीव , या यों कहें , श्रीग्रीव हो गये। यह विष उनके लिय नीलमणि विभूषण बन गया । ॥३२॥

का वा मुक्तिरित ः कुतो भवति चेत्किं प्रार्थनीयं तदा ॥३३॥

हे स्वामी देवदेव ! क्या मेरे जैसे आपके भक्तों के लिये यह पर्याप्त नहीं है कि वे , केवल एकबार , आपके सेवा , आपके सम्मुख नमन , नृत्य करलें , आपकी पूजा करलें , आपका नाम -स्मरण कर लें , आपकी कथा सुन लें , अथवा आपके दर्शन कर लें । अल्पकालीन देवताओं की सेवा करने से , उनके अनुसरण का प्रयास करने से क्या मिलेगा ? इस भक्ति के अतिरिक्त मुक्ति और क्या है , और किस चीज के लिये प्रार्थना की जाय ॥३३॥

हे प्राणियों के स्वामी ! आपके जैसे साहस और धैर्य का वर्णन कैसे करें ? ऐसी आत्मनिष्ठ स्थिति दूसरे लोग कैसे प्राप्त कर सकते हैं ? महाप्रलय के समय जब देवगण स्थानच्युत होने लगते हैं , मुनिगण भयभीत हो जाते हैं , और यह सारा जगत्प्रपच्च नष्ट होने लगता है , तो केवल आप ही अकेले निर्भय होकर उसे आनन्दमग्न देखते रहते हैं । ॥३४॥

हे शंभॊ (हे शिवशंकर ! ) आप योग और क्षेम का वहन करने वाले हैं । समस्त ज्ञात और अज्ञात हितों को प्रदान करने के लिये सदा तत्पर रहते हैं । बाहर और भीतर सर्वत्र व्याप्त हैं । सब कुछ जानने वाले हैं , और परम दयालु हैं । फिर , ऐसी अवस्था में , मेरे द्वारा आपको बताने के लिये क्या रह जाता हैं ? आप मेरे घनिष्ट हितैषी हैं -में सदा -रातदिन -यहीं विचार करता रहता हूँ । ॥३५॥


References : N/A
Last Updated : 2016-11-11T11:54:58.3670000

Comments | अभिप्राय

Comments written here will be public after appropriate moderation.
Like us on Facebook to send us a private message.

sanctions

  • प्रतिबंध 
RANDOM WORD

Did you know?

मंगळवारी येणार्‍या संकष्टी चतुर्थीस ‘ अंगारकी चतुर्थी ’ असे कां म्हणतात ?
Category : Hindu - Traditions
RANDOM QUESTION
Don't follow traditions blindly or ignore them. Don't assume a superstition either. Don't be intentionally ignorant. Ask us!!
Hindu customs are all about Symbolism. Let us tell you the thought behind those traditions.
Make Informed Religious decisions.

Featured site

Ved - Puran
Ved and Puran in audio format.

Latest Pages

Status

  • Meanings in Dictionary: 644,289
  • Dictionaries: 44
  • Hindi Pages: 4,328
  • Total Pages: 38,982
  • Words in Dictionary: 302,181
  • Tags: 2,508
  • English Pages: 234
  • Marathi Pages: 22,630
  • Sanskrit Pages: 11,789
  • Other Pages: 1

Suggest a word!

Suggest new words or meaning to our dictionary!!

Our Mobile Site

Try our new mobile site!! Perfect for your on the go needs.