TransLiteral Foundation
Don't follow traditions blindly or don't assume a superstition either.
Don't be intentionally ignorant. Ask us!! Make Informed Religious Decisions!!

मासिक

  • चैत्र मास
    व्रत हिंदू संस्कृति एवं धर्मके प्राण है ।
  • वैशाख मास
    व्रत हिंदू संस्कृति एवं धर्मके प्राण है ।
  • ज्येष्ठ मास
    व्रत हिंदू संस्कृति एवं धर्मके प्राण है ।
  • आषाढ़ मास
    व्रत हिंदू संस्कृति एवं धर्मके प्राण है ।
  • श्रावण मास
    व्रत हिंदू संस्कृति एवं धर्मके प्राण है ।
  • भाद्रपद मास
    व्रत हिंदू संस्कृति एवं धर्मके प्राण है ।
  • आश्विन मास
    व्रत हिंदू संस्कृति एवं धर्मके प्राण है ।
  • कार्तिक मास
    व्रत हिंदू संस्कृति एवं धर्मके प्राण है ।
  • मार्गशीर्ष मास
    व्रत हिंदू संस्कृति एवं धर्मके प्राण है ।
  • पौष मास
    व्रत हिंदू संस्कृति एवं धर्मके प्राण है ।
  • माघ मास
    व्रत हिंदू संस्कृति एवं धर्मके प्राण है ।
  • फाल्गुन मास
    व्रत हिंदू संस्कृति एवं धर्मके प्राण है ।
  • अधिक मास
    व्रत हिंदू संस्कृति एवं धर्मके प्राण है ।
  • मासिक एकादशी व्रत
    व्रत हिंदू संस्कृति एवं धर्मके प्राण है । 
  • प्रायश्चित्तव्रत
    व्रतसे ज्ञानशक्ति, विचारशक्ति, बुद्धि, श्रद्धा, मेधा, भक्ति तथा पवित्रताकी वृद्धि होती है ।
  • रोग हनन व्रत
    व्रतसे ज्ञानशक्ति, विचारशक्ति, बुद्धि, श्रद्धा, मेधा, भक्ति तथा पवित्रताकी वृद्धि होती है ।
  • विशिष्ट व्रत
    व्रतसे ज्ञानशक्ति, विचारशक्ति, बुद्धि, श्रद्धा, मेधा, भक्ति तथा पवित्रताकी वृद्धि होती है ।
  • मासिक व्रत परिचय
    व्रतसे ज्ञानशक्ति, विचारशक्ति, बुद्धि, श्रद्धा, मेधा, भक्ति तथा पवित्रताकी वृद्धि होती है । 
: Folder : Page : Word/Phrase : Person


Comments | अभिप्राय

Comments written here will be public after appropriate moderation.
Like us on Facebook to send us a private message.

उज्मा

  • वि. भव्य . - आफ . - मुधो . ( अर . अजिमचे अव ) 
RANDOM WORD

Did you know?

एका क्षणासाठी निमिष ही संज्ञा कशी प्राप्त झाली?
Category : Hindu - Beliefs
RANDOM QUESTION
Don't follow traditions blindly or ignore them. Don't assume a superstition either. Don't be intentionally ignorant. Ask us!!
Hindu customs are all about Symbolism. Let us tell you the thought behind those traditions.
Make Informed Religious decisions.

Featured site