TransLiteral Foundation
Don't follow traditions blindly or don't assume a superstition either.
Don't be intentionally ignorant. Ask us!! Make Informed Religious Decisions!!

बृहस्पति

  |  
  |  
: Folder : Page : Word/Phrase : Person


Comments | अभिप्राय

Comments written here will be public after appropriate moderation.
Like us on Facebook to send us a private message.

कवष (ऐलूष)

  • n. सूक्तद्रष्टा [ऋ. १०.३१-३३] । यह कुरुश्रवण का उपाध्याय था [ऋ. १०.३२.९] । इलूषपुत्र कवष सरस्वती के किनारे अंगिरसों के सत्र में आया, तब शूद्रापुत्र, अब्राह्मण एवं जुआडी कह कर इसे यज्ञ के लिये अयोग्य घोषित किया । तथा जंगल में इसे छोड कर ऐसी व्यवस्था की गई कि, इसे पानी भी प्राप्त न हो । परंतु अपोनप्त्रीय सूक्त कहने के कारण, सरस्वती स्वयं इसकी ओर मुड गई । अभी भी उस स्थान को परिसारक नाम है । ऋषियों ने बाद में इसका महत्त्व जान कर इसे वापस बुलाया [ऐ. ब्रा.२.१९];[ सां. ब्रा१२.१-३] सांख्यायन ब्राह्मणों में यह अब्राह्मण था, इसीलिये इसे यज्ञ से निकाल दिया, ऐसा स्पष्ट लिखा है । तृत्सुओं के लिये इन्द्र ने कवषादिकों का पराभव किया तथा उनके मजबूत किले उध्वस्त कर दिये [ऋ.७.१८.१२] । इसके सूक्त में कुरुश्रवण, उपश्रवस् तथा मित्रातिथि का निर्देश है [ऋ. १०.३२-३३] मित्रातिथि की मृत्यु से देखी उपमश्रवस् का समाचार पूछने के लिये यह आया था । 
RANDOM WORD

Did you know?

Sarva namaskar havet.
Category : Hindu - Beliefs
RANDOM QUESTION
Don't follow traditions blindly or ignore them. Don't assume a superstition either. Don't be intentionally ignorant. Ask us!!
Hindu customs are all about Symbolism. Let us tell you the thought behind those traditions.
Make Informed Religious decisions.

Featured site

Ved - Puran
Ved and Puran in audio format.