TransLiteral Foundation
Don't follow traditions blindly or don't assume a superstition either.
Don't be intentionally ignorant. Ask us!! Make Informed Religious Decisions!!
श्र

श्रीधर

See also ŚRĪDHARA , श्रीनाथ , श्रीनिवास , श्रीवर , श्रीवल्लभ
 पु. लक्ष्मीचा पति विष्णु याची नावें . अशी अनेक आहेत .

Comments | अभिप्राय

Comments written here will be public after appropriate moderation.
Like us on Facebook to send us a private message.

नरक III.

  • n. एक असुर, एवं प्राग्ज्योतिषपुर का राजा । पृथ्वी का पुत्र (भूमिपुत्र) होने के कारण, इसे भौम नाम भी प्राप्त था । इसकी माता भूदेवी ने विष्णु को प्रसन्न कर, इसके लिये ‘वैष्णवास्त्र’ प्राप्त किया था । उसी अस्त्र के कारण, नरकासुर बलाढय एवं अवध्य बना था । अपनी मृत्यु के पश्चात्, यही अस्त्र इसने अपने पुत्र भगदत्त को प्रदान किया [म.द्रो.२८] । नरक का राज्य नील समुद्र के किनारें था । इसकी राजधानी प्राग्ज्योतिषपुर अथवा मूर्तिलिंग नगर में थी । इसके पॉंच राज्यपाल थेः--हयग्रीव, निशुंभ, पंचजन, विरुपाक्ष एवं मुर [म.स.परि.१क्र.२१. पंक्ति. १००६] । पृथ्वी भर की सुंदर स्त्रियॉं, उत्तम रत्न एवं विविध वस्त्र आदि का हरण कर, नरक अपने नगर में रख देता था । किंतु उन में से किसी भी चीज का यह स्वयं उपभोग नहीं लेता था । गंधर्व, देवता, एवं मनुष्यो की सोलह हजार एक सौ कन्याएँ, एवं अप्सराओं के समुदाय में से सात अप्सराओं का नरक ने हरण किया था । त्वष्टा की चौदह वर्ष की कन्या कशेरु का, उसे मुर्च्छित कर नरक ने अपहरण किया था । उस समय इसने हाथी का मायावी रुप धारण किया था [म.स.परि.१क्र.२१पंक्ति.९३८-९४०] । इंद्र का ऐरावत हाथी एवं उचैःश्रवा नामक अश्व का भी उसने हरण किया था । देवमाता अदिति के कुंडलों का भी नरक ने अपहरण किया था । नरक से पृथ्वी से अपहरण किया सारा धन, एवं स्त्रियाएँ अलका नगरी के पास मणिपर्वत पर ‘औद्रका’ नामक स्थान में रखी हुई थी । मुर के दस पुत्र एवं अन्य प्रधान राक्षस, उस अंतःपुर की रक्षा करते थे । इसके राज्य की सीमा पर, मुर दैत्य के बनाये हुएँ छः हजार पाश लगाएँ गये थे । उन पाशों के किनारों के भागों में छुरे लगाएँ हुए थे । इस के बाद बडे पर्वतों के चट्टानों के ढेर से एक बाड लगाई गयी थी । इस ढेर का रक्षक निशुंभ था । औदका के अंतर्गत लोहित गंगा नदी के बीच विरुपाक्ष एवं पंचजन ये राक्षस उस नगरी के रक्षक थे । [म.स.१.२१.९५३] । नरक, का वर्तन हमेशा ही देव तथा ऋषिओं के खिलाफ ही रहता था । स्वयं कृष्ण का भी इसने अपमान किया था । एक बार सारे यादव दाशार्ही सभा में बैठे हुएँ थे । उस समय समस्त देवमंडल को साथ ले कर इंद्र वहॉं आया । उस ने कृष्ण से पापी नरकासुर के वध करने की प्रार्थना की । श्रीकृष्ण ने भी नरक का वध करने की प्रतिज्ञा की । पश्चात् सत्यभामा एवं इंद्र को साथ ले कर तथा गरुड पर आरुढ हो कर, श्रीकृष्न प्रग्ज्योतिषापुर राज्य के सीमा पर पहुँच गया । उस राज्य की सीमा पर मुर दैत्य की चतुरंगसेना खडी थी । उस सेना के पीछे मुर दैत्य के बनाये हुएँ छः हजार तीक्ष्ण पाश थे । श्रीकृष्ण ने उन पाशों को काट कर, एवं मुर को मार कर राज्य की सीमा में प्रवेश किया । पश्चात् पर्वतों के चट्टानों के घेरे के रक्षक, निशुंभ पर श्रीकृष्ण ने हमला किया । इस युद्ध में निशुंभ, हयग्रीव आदि आठ लाख दानवों का वध कर श्रीकृष्ण आगे बढा । पश्चात् ओदका के अंतर्गत विरुपाक्ष एवं पंचजन नाम से प्रसिद्ध पॉंच भयंकर राक्षसों से श्रीकृष्ण का युद्ध हुआ । उनको मार कर श्रीकृष्ण ने प्राग्‌ज्योतिपपुर नगर में प्रवेश किया । प्राग्‌ज्योतिषपूर नगरी में, श्रीकृष्ण को दैत्यों के साथ बिकट युद्ध करना पडा । उस युद्ध में लक्षावधि दानवों को मार कर, श्रीकृष्ण पाताल गुफा में गया । वहॉं नरकासुर रहता था । वहॉं कुछ देर युद्ध करने के बाद, श्रीकृष्ण ने चक्र ने नरकासुर का मस्तक काट दिया [म.स.परि.१.क्र. २१ पंक्ति. ९९५-११५५] । इसका वध करने के पहले, श्रीकृष्ण ने इसे ब्रह्मद्रोही, लोककंटक एवं नराधम कह कर पुकारा [म.स.परि.१क्र. २१ पंक्ति. १०३५] । नरकासुर एवं श्रीकृष्ण कें युद्ध की कथा हरिवंश में कुछ अलग ढंग से दी गयी हैं । पंचजन दैत्य का वध करने के पश्चात्, श्रीकृष्ण ने प्राग्‌ज्योतिषपुर नगरी पर हमला किया । नरकासुर से युद्ध शुरु करने के पहले श्रीकृष्ण ने पांचजन्य शंख फूँका । उस शंख की आवाज सुन कर नरक अत्यंत क्रोधित हुआ, एवं अपने रथ में बैठ कर युद्ध के लिये बाहर चला आया । नरक का रथ अत्यंत विस्तृत, मौल्यवान एवं अजस्त्र था । इसके रथ को हजार घोडे जोते गये थे । इस प्रकार सुसज्ज हो कर, नरकासुर युद्धभूमि में आया, एवं श्रीकृष्ण से उसका तुमुल युद्ध हुआ । आखिर श्रीकृष्ण ने सुदर्शन चक्र से उसकी सिर काट लिया । फिर नरकासुर की माता ने, श्रीकृष्ण के पास आ कर, अदिति के कुंडल एवं प्राग्‌ज्योतिषपुर का राज्य उसे अर्पण कर दिया [ह.वं.२.६३];[ भा.१०.५९] । पश्चात् श्रीकृष्ण ने नरकासुर के महल में प्रवेश कर बंदिगृह में रखी गयी सोलह हजार एक सौ स्त्रियों की मुक्तता की [पद्म.उ.२८८] । उन स्त्रियों को एवं काफी संपत्ति ले कर श्रीकृष्ण द्वारका लौट आया [भा.१०.५९] । नरकासुर वध की कथा पद्मपुराण में भी दी गयी है । किंतु उस में ‘नरचतुर्दशी माहात्म्य’ को अधिक महत्त्व दिया गया है । नरकासुर ने तप तथा अध्ययन कर, तपःसिद्धि प्राप्त की थी । फिर इन्द्र को इससे भीति उत्पन्न हुई, एवं उसने नरकासुर का वध करने की प्रार्थना कृष्ण से की । पश्चात् श्रीकृष्ण ने इस तपःसिद्ध नरकासुर को हस्ततल से प्रहार कर के इसका वध किया । यह मरणोन्मुख हो कर भूमि पर गिरा तब इसने कृष्ण की स्तुति की । कृष्ण ने इसे वर मॉंगने के लिये कहा । इसने वर मॉंगा ‘मेरे मृत्युदिन के तिथि को, जो सूर्यादय के पहले मंगलस्नान करेंगे, उन्हें नरक की पीडा न हो’। यह कार्तिक वद्य चतुर्दशी को मृत हुआ । इसलिये उस दिन को ‘नरक चतुर्दशी’ कहने की प्रथात शुरु हुई । उस दिन किया प्रातःस्नान पुण्यप्रद मानने की जनरीति प्रचलित हुई [पद्म. उ.७६.६७] । लोमश ऋषि के साथ पांडव तीर्थाटन के लिये गये थे । अलकनंदा नदी के पास जाने पर, शुभ्र पर्वत के समान प्रतीत होनेवाला शिखर लोमश ने उन्हें दिखाया । वे नरकासुर की अस्थियॉं थी [म.व.परि.१.क्र.१६. पंक्ति२८-३१] । वरुण सभा में नरकासुर को सम्माननीय स्थान प्राप्त हुआ था [म.स.९.१२] । नरकासुर के वध के बाद उसकी माता के कथनानुसार, कृष्ण ने इसने पुत्र भगदत्त को अभयदान दिया । उस पर वरदहस्त रखा तथा उसे राज्य दिया [भा.१०.५९] । नरकासुर की कथा कालिकापुराण में निम्नलिखित ढंग से दी गयी है । त्रेतायुग के उत्तारार्ध में यह वराहरुपी विष्णु को भूमि के द्वारा उत्पन्न हुआ । विदेह देश के राजा जनक ने सोलह वर्षो तक इसका पालन किया । प्राग्ज्योतिषपुर के किरातों से युद्ध कर के, इसने उनका नाश किया । बाद में राज्यश्री के कारण मदोन्मत्त होने पर द्वापार युग में कृष्ण ने इसका नाश किया [कालि.३९-४०] 
RANDOM WORD

Did you know?

Request for Anagha Ashtami Puja vrat Sagrasangit Puja
Category : Hindu - Puja Vidhi
RANDOM QUESTION
Don't follow traditions blindly or ignore them. Don't assume a superstition either. Don't be intentionally ignorant. Ask us!!
Hindu customs are all about Symbolism. Let us tell you the thought behind those traditions.
Make Informed Religious decisions.

Word Search


Input language:

Featured site